bijli ka bill kaise nikale 2024 इन किसानों को मिलेगी मुफ्त बिजली, बस पूरी करनी होगी यह शर्त
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

bijli ka bill kaise nikale निजी नलकूप वाले किसानों को सिंचाई के लिए मुफ्त में बिजली मिलनी शुरू हो गई है। शासन ने पिछले महीने ही इसके लिए आदेश जारी किया था। हालांकि नलकूप पर लगे मीटर की रीडिंग होती रहेगी।

मुफ्त बिजली योजना का लाभ उन्हीं किसानों को मिलेगा जिनके ऊपर पहले का कोई भी बकाया न हो। यदि किसान पर पहले का बकाया है उन्हें इसका लाभ रुपये जमा करने के बाद ही मिलेगा। बकाया जमा करने के लिए बिजली निगम ने दिसंबर तक का समय दिया है।

bijli ka bill kaise nikale

👉क्लिक करे और पाए मूफ्त मे बिजली👈

bijli ka bill kaise nikale मार्च महीने में शासन ने निजी नलकूपों के उपभोक्ताओं को मुफ्त बिजली की सौगात दी थी। एक अप्रैल 2023 से किसानों का बिल भी माफ कर दिया गया था। किसानों से कहा गया था कि एक अप्रैल 2023 से पहले का बिल किसानों को जमा करना होगा। इसके लिए किश्तों में भुगतान की व्यवस्था की गई है।

अब Google Adsense की मदद से आप भी घर बैठे कमा सकते हैं हर महीने लाखों रुपए

140 यूनिट प्रति किलोवाट तक मिलेगी छूट

बिजली निगम ने मुफ्त बिजली सशर्त दी है। प्रति किलोवाट 140 यूनिट के उपभोग पर एक भी रुपये नहीं देने होंगे। यानी उपभोक्ता का कनेक्शन यदि एक किलोवाट क्षमता का है तो वह हर महीने 140 यूनिट तक बिजली का मुफ्त उपभोग कर सकता है। निगम ने 7.46 किलोवाट यानी 10 हार्सपावर क्षमता के नलकूपों पर प्रति माह अधिकतम 1045 यूनिट तक ही बिजली मुफ्त देने की व्यवस्था बनायी है। इससे ज्यादा रीडिंग दर्ज हुई तो अतिरिक्त रीडिंग के रुपये देने होंगे।

👉जाणे योजना की पुरी जानकारी👈

फैक्ट फाइलजोन एक में उपभोक्ताओं की संख्या – 4448

जोन दो में उपभोक्ताओं की संख्या – 3161

अब ‘बिजली रिचार्ज’ को तैयार हो जाईए लगने वाले हैं स्मार्ट मीटर

bijli ka bill kaise nikale मुख्य अभियंता आशु कालिया ने कहा कि अप्रैल महीने से निजी नलकूप वाले किसानों को मुफ्त बिजली योजना की शुरुआत हो चुकी है। जिन किसानों का पहले का बकाया है उन्हें लाभ तभी मिलेगा जब वह पंजीकरण कराकर निर्धारित किश्तों में बिल का भुगतान कर देंगे। सिंचाई के अलावा कनेक्शन का उपयोग किसी भी रूप में होने पर कार्रवाई की जाएगी।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
error: Content is protected !!