Farm management system project
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Farm management system project तीन राज्यों को मिली सरकार के मंजूरी, अफीम पोस्त की खेती के लिए 1.12 लाख किसानों को मिलेगा लाइसेंस भारत सरकार ने मध्य प्रदेश, राजस्थान, और उत्तर प्रदेश के किसानों के लिए 2023-24 फसल वर्ष में अफीम पोस्त की खेती (Opium Poppy Cultivation) के लिए एक नई लाइसेंसिंग पॉलिसी का ऐलान किया है।

इस नई नीति के अनुसार, इन तीन राज्यों में लगभग 1.12 लाख किसानों को अफीम पोस्त की खेती के लिए लाइसेंस दिए जाएंगे, जिससे न केवल किसानों को वाणिज्यिक लाभ होगा, बल्कि यह भी अफीम उत्पादन को बढ़ावा देगा।

नई नीति की मुख्य विशेषताएँ:

बढ़ोतरी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय डिमांड: यह नीति अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अफीम के उपयोग के लिए बढ़ती मांग को पूरा करने का उद्देश्य रखती है, जिसके साथ-साथ यह भारतीय निर्यात उद्योग की जरूरतों को भी पूरा कर सकेगा।

खुद का Business शुरु करने वालों की हुई बल्ले-बल्ले, सरकार देगी 10 लाख तक का लोन वो भी बिना किसी गारंटी

लाइसेंसधारी किसानों की संख्या में वृद्धि:

नई नीति के अनुसार, लाइसेंसधारी किसानों की संख्या में वृद्धि की गई है और आने वाले 3 वर्षों में 1.45 लाख किसान अफीम पोस्त की खेती के लिए लाइसेंस प्राप्त कर सकते हैं। Farm management system project

अफीम प्रोसेसिंग क्षमता का विस्तार:

सरकार ने अपने अल्केलॉइड कारखानों की क्षमता में बढ़ोतरी की है, जिससे अफीम प्रोसेसिंग में वृद्धि होगी और भारत अपनी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मांग को पूरा कर सकेगा।

Farm management system project

NSP पर सभी स्कॉलरशिप्स हेतु आवेदन प्रक्रिया शुरु, जाने कैसे करना होगा घर बैठे अप्लाई

लाइसेंस की शर्तों में छूट: Farm management system project

नई नीति के अनुसार, लाइसेंसधारी किसानों को और अधिक छूट दी गई है, जिससे किसानों को अफीम पोस्त की खेती करने में आसानी होगी।

नई नीति के लिए योग्यता:

इस नीति के तहत, किसानों को लाइसेंस प्राप्त करने के लिए अफीम की उपज की योग्यता होनी चाहिए। इसके अलावा, अनलांस्ड पोस्त के लिए लाइसेंस की व्यवस्था सामान्य तरीके से शुरू की गई थी और तब से इसका विस्तार किया गया है।

अखेर जाहीर या तारखेला मिळणार १ला हाप्ता

भारत में अफीम पोस्त की खेती के लिए यह नई नीति किसानों के लिए एक सुनहरा अवसर प्रदान करती है। इससे न केवल किसानों को आर्थिक रूप से सशक्ति मिलेगी, बल्कि यह भी भारत के अफीम उत्पादन को बढ़ावा देगी और अंतरराष्ट्रीय मांग को पूरा करेगी।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
error: Content is protected !!