Kankrej Cow: गुजरात की शान है ये गाय, हर रोज देती है 10-15 लीटर दूध, जानें कीमत और खासियत
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Kankrej Cow Dairy Farming Profit कांकरेज गाय की दूध देने की क्षमता अच्छी होती है. वहीं, इस गाय का पालन ज्यादातर गुजरात और राजस्थान में किया जाता है. कांकरेज नस्ल की गायें प्रतिदिन औसतन 6 से 10 लीटर तक दूध देती हैं. ऐसे में आइए आज कांकरेज गाय की कीमत, पहचान और विशेषताओं के बारे में विस्तार से जानते हैं-

कांकरेज गाय एक देशी नस्ल की गाय है. यह भारत में एक लोकप्रिय नस्ल है, जो अपने दूध उत्पादन क्षमता के लिए जानी जाती है. गुजरात राज्य में बनास कंथा, खेड़ा, महेसाणा, साबर कांथा और कच्छ क्षेत्र में जबकि, राजस्थान में बाड़मेर और जोधपुर क्षेत्र में कांकरेज गाय और बैल बहुतायत में हैं. कांकरेज गाय और बैल दोनों ही किसान के पसंदीदा हैं. इस नस्ल का पालन कृषि के काम में और दूध के लिए, यानी दोहरे काम के लिए किया जाता है. कांकरेज गाय को कई नामों से पुकारा जाता है जिनमें वगाडि़या, वागड़, बोनई, नागर और तालाबड़ा आदि नाम शामिल है. इसका नाम गुजरात के बनासकांठा जिले के भौगोलिक क्षेत्र यानी कांक तालुका के नाम पर रखा गया है। 

Kankrej Cow कांकरेज नस्ल के मवेशी सिल्वर-ग्रे, आयरन ग्रे या स्टील ग्रे रंग के होते हैं. सींग मजबूत होते हैं और वीणा के आकार में बाहर और ऊपर की ओर मुड़े होते हैं. एनडीडीबी के अनुसार, कांकरेज नस्ल की गायें एक ब्यान्त में औसतन 1738 लीटर तक दूध देती हैं. ऐसे में आइए जानते हैं गाय की इस देशी नस्ल कांकरेज गाय की पहचान, कीमत और विशेषताएं-

Agrosolution

इसे भी पढ़ें- Pashudhan Credit Guarantee Yojana 2023 सरकार ने पशुपालन क्षेत्र के लिए लॉन्च की अब तक की पहली ऋण गारंटी स्कीम

कांकरेज गाय की पहचान और विशेषताएं

•    कांकरेज नस्ल की गायें एक ब्यान्त में औसतन 1738 लीटर तक दूध देती हैं.
•    इस नस्ल की गायें न्यूनतम 800 लीटर और अधिकतम 1800 लीटर तक दूध देती हैं.
•    दूध में फैट यानी वसा न्यूनतम 2.9 प्रतिशत और अधिकतम 4.2 प्रतिशत पाया जाता है.
•    प्रौढ़ गायों की ऊंचाई औसतन 125 सेमी, जबकि प्रौढ़ बैलों की ऊंचाई औसतन 158 सेमी होता है.
•    प्रौढ़ गायों के शरीर की लंबाई औसतन 123 सेमी, जबकि प्रौढ़ बैलों के शरीर की लंबाई 148 सेमी होता है.
•    प्रौढ़ गायों का वजन औसतन 320 से 370 किलोग्राम होता है.
•    कांकरेज गाय मवेशियों की सबसे भारी नस्लों में से एक है.
•    मवेशी सिल्वर-ग्रे, आयरन ग्रे या स्टील ग्रे रंग के होते हैं.Kankrej Cow
•    होते हैं और वीणा के आकार में बाहर और ऊपर की ओर मुड़े होते हैं.
•    चारे पानी की पर्याप्त व्यवस्था और अच्छे वातावरण के बीच यह गाय 15 लीटर तक दूध देती है.
•    औसतन प्रतिदिन दूध देने की क्षमता 6 से 10 लीटर तक है.

कांकरेज गाय Kankrej Cow की कीमत

आमतौर पर गायों की कीमत उम्र, नस्ल, स्थान और दूध देने की क्षमता के आधार पर किया जाता है. वहीं, कांकरेज गाय की कीमत/Kankrej Cow Price 25 हजार रुपये से लेकर 65 हजार रुपये तक है. वहीं कुछ राज्यों में इस गाय की कीमत कम या ज्यादा भी हो सकता है.

Agrosolution

Cheapest Home Loan :स्वस्त गृहकर्जाच्या शोधात आहात? या बँका आहेत भारी; बघा कोणत्या बँकेत किती व्याजदर!

कांकरेज गाय को होने वाले रोग और बीमारियां

बीमारियां: पाचन प्रणाली की बीमारियां, जैसे- सादी बदहजमी, तेजाबी बदहजमी, खारी बदहजमी, कब्ज, अफारे, मोक/मरोड़/खूनी दस्त और पीलिया आदि.
रोग: तिल्ली का रोग (एंथ्रैक्स), एनाप्लाज़मोसिस, अनीमिया, मुंह खुर रोग, मैगनीश्यिम की कमी, सिक्के का जहर, रिंडरपैस्ट (शीतला माता), ब्लैक क्वार्टर, निमोनिया, डायरिया, थनैला रोग, पैरों का गलना, और दाद आदि.

Agrosolution

इसे भी पढ़ें- Cow Dung Products गोबर से बदली दिव्यांग की तकदीर, अब दूसरों को उपलब्ध करा रहे रोजगार, इनके प्रोडक्ट्स की है काफी हाई डिमांड

कांकरेज गाय पालन के दौरान किन बातों का ध्यान रखें?

Kankrej Cow गाभिन पशुओं का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए. दरअसल,अच्छा प्रबंधन करने से अच्छे बछड़े जन्म लेते हैं और दूध की मात्रा भी अधिक मिलती है. इसके अलावा बछड़े को सिफारिश किए गए टीके लगवाएं और रहने के लिए उचित आवास की व्यवस्था करें.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
error: Content is protected !!