govt schemes for farmers किसानों के लिए खुशखबरी! इस खेती पर सरकार दे रही 40% की सब्सिडी

govt schemes for farmers प्रदेश में किसानों का रुझान मसाला खेती की ओर बढ़ रहा है. मसाला खेती के बढ़ने से विभिन्न जिलों में इससे संबंधित उद्योग भी खुलने लगे हैं. सरकार ने भी मसाला खेती को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं चला रखी है.

Agrosolution

कम सिबिल स्कोर पर लोन, फोन पे देगा 2 मिनट में लोन

वहीं मसाले की खेती करने वाले किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी है. जी हां, किसानों को सरकार द्वारा मसाले की खेती करने पर 40% का अनुदान सरकार द्वारा दिया जा रहा है. कुल लागत का 40% सीधा किसान के खाते में भेजा जाता है, जिससे किसानों की आय दोगुनी करने में यह योजना कल्याणकारी साबित हो रही है.

खेकड़ा कृषि विज्ञान केंद्र में हॉर्टिकल्चर इंस्पेक्टर अरुण कर्दम ने बताया कि मसाला विस्तार क्षेत्र के अंतर्गत किसानों की आय दोगुनी करने के लिए सरकार की कल्याणकारी योजना चल रही है, जिसमें किसानों को लागत का 40% उनके खाते में भेजा जाता है. एक हेक्टेयर भूमि पर करीब 30 हजार का खर्च आता है, जिस पर 12000 सरकार द्वारा किसान के खाते में भेजे जाते हैं.

govt schemes for farmers

👉अभी उठाये योजना का लाभ करे ऑनलाइन आवेदन👈

govt schemes for farmers इस योजना के अमल में आने के बाद किसानों की मसाला क्षेत्र में रुचि बड़ी है और वह कल्याणकारी योजना का लाभ ले रहे हैं. विभाग की तरफ से मसाले की खेती करने वाले किसानों को सब्सिडी दी जाएगी. क्योंकि सरकार चाहती है कि प्रदेश के किसान पारंपरिक फसलों के साथ- साथ मसाले की भी खेती करें.

Agrosolution

लाखों में बिकती है इस नस्ल की बकरी, इसको पालकर बन जाएंगे मालामाल, विदेशों तक है इसके मांस की डिमांड

उद्यान विभाग में कराना होगा पंजीकरण

govt schemes for farmers हॉर्टिकल्चर इंस्पेक्टर अनुज कर्दम ने बताया कि इसके लिए किसान को अपनी जमीन की फर्द और खेत में लागत की जानकारी के साथ अपना पंजीकरण उद्यान विभाग में करना होता है. इसके बाद किसान को सीधा लाभ उसके खाते में दिया जाता है. सरकार किसान कल्याणकारी योजना से किसानों की आय दोगुनी हो रही है. किसानों को इस योजना से जुड़ने से अन्य लाभ भी होते हैं. निशुल्क प्रशिक्षण कृषि विज्ञान केंद्र से फसल का लिया जा सकता है. मसाला मूलतः वनस्पति उत्पाद या उनका मिश्रण होता है, जो खाद्य पदार्थों को सुगंधित स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

error: Content is protected !!